fb noscript
PHI LOGO

PHI Learning

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

EASTERN ECONMIC EDITION
loading image

 
PHI Learning
समाजशास्त्रा :  आवधान्याए एवं  सिद्ध...


Share on
Share on TwitterShare on MailShare on LinkedInPinterestShare on Other Networks

समाजशास्त्रा : आवधान्याए एवं सिद्धांत (SAMAJSHASTRA: AVDHARNAYEN EVAM SIDDHANT)

Edition : तृतीय संस्करण
Pages : 768

Print Book ISBN : 9788120348608
Binding : Paperback
Print Book Status : Available
Print Book Price : 795.00  596.25
You Save : (198.75)

eBook ISBN : 9789354438493
Ebook Status : Available
Ebook Price : 795.00  596.25
You Save : (198.75)

Description:


भारत के विभिन्न विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तार स्तर व राष्ट्रीय और राज्यस्तरीय विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं, यथा -UPSC, PCS तथा UGC NET की आवश्यकताओ को ध्यान में रखकर इस पुस्तक की रचना एक स्तरीय पाठ्य-पुस्तक के रूप में की गयी है।

This book is recommended in Nalanda Civil Services Centre, Patna university, Coaching Institute, Bihar and Jharkhand.

पुस्तक में प्रमुख विद्वानों के विचारों को क्रमश: प्रस्तुत किया गया है। समाजशास्त्राीय अवधारणाओं का प्रामाणिक अनुवाद और उनके विशलेषण के साथ-साथ पाशचात्य विद्वानों के नामों का सही उच्चारण इस पुस्तक की विशेषताए हैं|

अंग्रेजी माछयम से अछययन करने वाले पाठकों की अपेक्षा हिन्दी माछयम से पठन-पाठन करने वाले पाठक ज्ञान की द्रष्टि से पीछे न रहें, इस बात का छयान रखा गया है। अंग्रेजी की नवीनतम उच्च स्तरीय पुस्तकों को आधार मानकर विभिन्न प्रकार के समाजशास्त्राय तथ्यों को एकत्रिात कर मौलिक विशलेषण करने का प्रयास किया गया है।

तृतीय संस्करण की विछोषताएं

 •  इस संस्करण में १० नये अधयाय और जोड़े गये हैं तथा विगत् संस्करण के सभी अधयायों में आवशयकतानुसार परिवर्धन किया गया है।

 •  यथास्थान नवीन संदर्भों वेफ संवर्धन से पुस्तक का प्रत्येक अधयाय बहुत समृद्ध हुआ है।

   •  विषय से सम्बंधित समस्त प्रामाणिक तथ्यों का संकलन पुस्तक में एक ही जगह पर पर उपलब्ध है।

 • पाठकों की सुविधा हेतु अनेक उद्धरण और लेखकों के नाम साथ वर्ष तथा अंक दिये गये हैं, जो क्रमश: पुस्तक का प्रकाशन वर्ष और पृष्ठ संख्या दर्शाते हैं। इस तरह के विवरण स्तरीय अनुसन्छाानों के प्रकाशनों में ही मिलते हैं।

Review the Book

Book ISBN :
Title :
Author :
Name :
Affiliation :
Contact No.
Email :
Correspondence Address :
Review :
Rate :
Empty StarEmpty StarEmpty StarEmpty StarEmpty Star
×
Enter your membership number.

loading image