fb noscript
PHI LOGO

PHI Learning

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

EASTERN ECONMIC EDITION
loading image

 
PHI Learning
मानव अधिकार अंतरराष्ट्रीय प्रसंविद...


Share on
Share on Twitter Share on Mail Share on LinkedIn Pinterest Share on Other Networks

मानव अधिकार अंतरराष्ट्रीय प्रसंविदाएँ और भारत की विधि (MANAV ADHIKAR ANTARRASHTRIYA PRASAMVIDAYEN AUR BHARAT KI VIDHI)

Pages : 124

Print Book ISBN : 9788120340442
Binding : Paperback
Print Book Status : Available
Print Book Price : 95.00  71.25
You Save : (23.75)

eBook ISBN : 9789354438417
Ebook Status : Available
Ebook Price : 95.00  71.25
You Save : (23.75)

Description:


मानव अधिकार की सार्वभौम घोषणा द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ ने यह दर्शाया की सभ्य राष्ट्र यह मानते हैं कि प्रत्येक मानव के कुछ ऐसे अधिकार हैं जिनसे उसे वंचित नहीं किया जा सकता | समस्त विश्व को उन अधिकारों का सम्मान करना चाहिए |

यह घोषणा आबद्धकर संधि नहीं थी | राष्ट्र संघ ने सर्वसम्मति से मानवधिकारों को दो भागों में विभाजित किया | राज्य पर अंकुश लगाने के जो अधिकार थे उन्हें सिविल तथा राजनीतिक अधिकार अंतरराष्ट्रीय प्रसंविदा में रखा गया | अन्य सकारात्मक अधिकारों को आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकार अंतरराष्ट्रीय प्रसंविदा में स्थान दिया गया |

इस पुस्तक में प्रसंविदाओं के अनुच्छेदों के समानांतर हमारे संविधान और विभिन्न अधिनियमों के उपबंध दिए गए हैं | साथ ही उच्चतम न्यायालय के संबंधित निर्णय भी यथास्थान दिए गए हैं |

कोई अन्य पुस्तक एसी नहीं है जिसमें प्रसंविदाओं के प्रत्येक अनुच्छेद के साथ भारतीय विधि के उपबंध दिए गये हैं |

लेखक की दूसरी पुस्तक मानव अधिकार की सार्वभौम घोषणा और भारत की विधि के साथ इस पुस्तक को पढ़ने पर मानव अधिकार और भारतीय विधि का सम्यक चित्र सम्मुख उपस्थित होगा | ये पुस्तकें एक दूसरे की पूरक हैं |

Review the Book

Book ISBN :
Title :
Author :
Name :
Affiliation :
Contact No.
Email :
Correspondence Address :
Review :
Rate :
Empty StarEmpty StarEmpty StarEmpty StarEmpty Star
×
Enter your membership number.

loading image