PHI LOGO

PHI Learning

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

Helping Teachers to Teach and Students to Learn

EASTERN ECONMIC EDITION

प्राराभिक बाल्यावस्था :: देखभाल और शिक्षा ( Prarambhik Balyavastha : Dekhbhal aur Shiksha ) - ABOUT AUTHOR(S)


गुप्त, मंजीत सेन

मंजीत सेन गुप्त, निदेछाक, वे+.आई.आई.टी., कॉलेज ऑफ एजुवे+छान गुड़गांव। इन्होंने राष्ट्रीय छौक्षिक अनुसंछाान और प्रछिाक्षण परिषद्, नई दिल्ली में ४१ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्य किया है। इनमें छाामिल हैं-संयुक्त निदेछाक, वे+ंद्रीय व्यावसायिक छिाक्षा संस्थान, प्रछाानाछयापक , क्षेत्राीय छिाक्षा महाविद्यालय, प्रोपे+सर तथा विभागाछयक्ष, छौक्षिक अनुसंछाान और नीतिगत संदर्छा विभाग तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंछा एकक। बरकतुल्लाह विछवविद्यालय, भोपाल में संकायाछयक्ष वे+ रूप में रह चुवे+ डॉ. सेन गुप्त एक पु+लब्राईट वछत्तिा -छात्रा और मॉरीछास में भारतीय विछोषज्ञ भी रहे हैं। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इन्होंने अनेक संगोष्ठियां आयोजित की हैं तथा छौक्षिक परियोजनाओं में सलाहकार रह चुवे+ हैं। इन्हें राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार भी प्राप्त हुए हैं।

विभिन्न पत्रा-पत्रिाकाओं में इनवे+ २०० से अछिाक लेख व छाोछा-पत्रा प्रकाछिात हो चुवे+ हैं। पांच पीएच.डी. छाोछा छात्राों का मार्गदर्छान कर चुवे+ प्रोपे+सर सेन गुप्त वर्तमान में अछयापन तथा छौक्षिक अनुसंछाान वे+ क्षेत्राों में सतत् रूप से संलग्न हैं।


गुप्त, मंजीत सेन